उत्तराखंड

केंद्र ने कुंभ में आरटीपीसीआर जांच के संबंध में मांगी रिपोर्ट, पूछा- एक दिन में क्या होगी टेस्ट की संख्या

2021 हरिद्वार कुंभ में श्रद्धालुओं की संख्या का निर्धारण कोरोना जांच के मद्देनजर वहां की जाने वाली व्यवस्थाओं पर निर्भर करेगा। केंद्र की ओर से कुंभ में आरटीपीसीआर जांच के संबंध में मांगी गई रिपोर्ट से यह संकेत मिल रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने मुख्य सचिव को पत्र भेजकर पूछा है कि कुंभ में एक दिन में आरटीपीसीआर जांच की अधिकतम संख्या क्या रहेगी।  कुंभ की व्यवस्थाओं को लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में हुई बैठक में भी इस संबंध में मंथन किया गया। मुख्य सचिव ओमप्रकाश के मुताबिक एक फरवरी को दोबारा बैठक होगी। फिर इसका जवाब केंद्र को भेजा जाएगा। केंद्र सरकार ने हाल में कुंभ के संबंध में जारी गाइडलाइन में कुंभ की अवधि घटाने, श्रद्धालुओं की संख्या सीमित रखने और अस्थायी व्यवस्था खत्म करने पर जोर दिया था। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर कार्मिकों की संख्या के हिसाब से प्रतिदिन आने वाले श्रद्धालुओं की अधिकतम सीमा निर्धारित करने को भी कहा गया है। इससे राज्य सरकार की पेशानी पर बल पड़े हैं।हालांकि, इस संबंध में संतों से राय मशविरा करने के साथ ही सरकार मंथन में जुटी है, ताकि सभी पहलुओं पर विचार-विमर्श के बाद कुंभ के लिए एसओपी जारी की जा सके। इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने मुख्य सचिव को पत्र भेजकर पूछा है कि कुंभ में आरटीपीसीआर जांच की अधिकतम संख्या क्या रहेगी। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने यह पत्र मिलने की पुष्टि की।
शुक्रवार को देर शाम मुख्यमंत्री आवास में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में कुंभ मेले की व्यवस्थाओं को लेकर आयोजित बैठक में भी उक्त मसले पर विमर्श किया गया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कुंभ मेले के आयोजन के संबंध में केंद्र से जारी दिशा-निर्देशों के क्रम में जरूरी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। साथ ही स्नान घाटों की क्षमता और सुरक्षित शारीरिक दूरी, पंजीकरण, प्रवेश द्वारों पर जांच की व्यवस्था से संबंधित कार्ययोजना तैयार करने को कहा।मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि सभी पहलुओं का अध्ययन कर विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जाए, ताकि इस संबंध में केंद्र को भी स्थिति से अवगत कराया जा सके। बैठक में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक, मुख्य सचिव ओमप्रकाश, पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार, सचिव अमित नेगी, शैलेश बगौली, एसए मुरुगेशन, डॉ.पंकज कुमार पांडेय, विनोद कुमार सुमन, आइजी मेला संजय गुंज्याल मौजूद थे। मेलाधिकारी और हरिद्वार के जिलाधिकारी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बैठक से जुड़े।

To Top